GST काउंसिल से Automobile industry को नहीं मिली राहत, ये थी वजह

23/09/2019 - 17:47 | ,  ,   | deepak

भारत का ऑटोमोबाइल उद्योग इन दिनों मंदी की मार से जूझ रहा है और 20 सितम्बर को होने वाली जीएसटी काउंसिंल की बैठक में विभिन्न निर्माताओं को सरकार से उम्मीद थी कि उन्हें जीएसटी में राहत दी जाएगी, लेकिन सरकार की ओर से फिलहाल ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री को कोई राहत नहीं मिलती हुई दिख रही है।

636215380578774404 Ap Auto Sales 88464052

रिपोर्ट के मुताबिक जीएसटी काउंसिल की हुई बैठक में सरकार ने ऑटो इंडस्‍ट्री की मांग को नजरअंदाज कर दिया है। विभिन्न निर्माता कारों पर लगने वाले 28 फीसदी जीएसटी को घटाकर 18 फीसदी करने की मांग कर रही थे लेकिन काउंसिल की ओर से इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है।

यह रही वजह

2017 Maruti Dzire 3rd Gen Front Quarter Unveiled 3

दरअसल काउंसिल के इस फैसले को लेकर जीएसटी की फिटमेंट कमेटी ने पहले से ही संकेत दे दिए थे। फिटमेंट कमेटी ने स्पष्ट किया ता ऑटो इंडस्‍ट्री के लिए टैक्‍स स्‍लैब में कटौती का अधिकतर राज्‍य विरोध कर रहे हैं। इसके कारण राज्यों को राजस्व का भारी नुकसान होना माना रहा था।

यह भी पढ़ेः 9 राज्यों के रोड टैक्स में इजाफा, कार और किराया होगा महंगा

कमेटी ने कहा कि स्‍लैब में कमी से टैक्‍स कलेक्‍शन में 20,000 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान होगा। अगस्त, 2019 में ग्रॉस जीएसटी कलेक्शन 98,202 करोड़ रहा, जो पिछले साल इसी महीने में 93,960 करोड़ की तुलना में 4.51 फीसदी अधिक था। यह जीएसटी कलेक्शन स्तर हालांकि साल-दर-साल आधार पर अधिक था, फिर भी सरकार की उम्मीद के मुताबिक एक लाख करोड़ रुपये से कम था।

क्या कहते हैं वाहन निर्माता

Hyundai Curb Concept Front Three Quarters 1a9b

सरकार के इस फैसले पर वाहन निर्माताओं के संगठन सियाम ने कहा कि जीएसटी काउंसिल की ओर से वाहनों पर टैक्‍स में कटौती से इनकार करने के बाद अब मांग को बढ़ावा देने के लिए उद्योग को " अपने स्तर पर ही प्रयास करने" होंगे।

यह भी पढ़ेः SIAM-DG विष्णु माथुर होंगे रिटायर, मिस्टर राजेश मेनन संभालेंगे चार्ज

संगठन के एक प्रवक्ता ने कहा कि वाहन उद्योग जीएसटी में कटौती को लेकर काफी आशान्वित थे, लेकिन सरकार ने जीएसटी को 28 से घटाकर 18 फीसदी नहीं किया गया है। लिहाजा उद्योग को अपनी मांग बढ़ाने के लिए अपने स्तर पर विकल्प ढूंढने होंगे।

ऑटोमोबाइल सेक्टर में गिरावट

2018 Vw Golf Gte Front Quarter At The Iaa 2017

बता दें कि पिछले कई महीनों से ऑटोमोबाइल सेक्टर में प्रोडक्‍शन और सेल्‍स में गिरवट देखी जा रही है। मारुति सुजुकी, महिंद्रा एंड महिंद्रा और अशोक लीलैंड जैसी बड़ी कंपनियों के प्लांट में प्रोडक्शन कई दिनों तक बंद रहा है। ऐसे में जीएसटी काउंसिल के इस फैसले को ऑटो सेक्टर के लिए झटके की तरह मान रह हैं।