पैसेंजर व्हीकल और बाइक की सेल्स में दो दशकों की सबसे बड़ी गिरावट

12/10/2019 - 12:47 | ,  ,  ,  ,   | deepak

भारतीय ऑटोमोबाइल उद्योग इस समय कम बिक्री और प्रोडक्शन के दौर से गुजर रहा है और अब खबर है कि पैसेंजर व्हीकल सेगमेंट (खासकर) में पिछले दो दशक की सबसे बड़ी गिरावट यानि 23.56 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। इस दौरान केवल 1,333,251 यूनिट की बिक्री ही हो पाई है, जो कि पिछले छः महीनों की भी सबसे खराब बिक्री रही है।

Pv Logs Worst Ever H1 Sales Motorcycle Sales Dive

अंग्रेजी अखबार इकोनामिक्स टाइम्स की वेबसाइट में प्रकाशित हुई खबर के हवाले से सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर(SIAM) ने कुल बिक्री के आकड़ो जारी किया है। इस आकड़े के अनुसार इस साल अप्रैल से लेकर सितंबर की छमाही में कुल बिक्री 17.08 प्रतिशत घटकर 11,736,976 यूनिट रही। यानि पिछले छः महीनों में ऑटो उद्योग में कुल 17 प्रतिशत की गिरावट दर्ज हुई।

पैसेंजर व्हीकल सेगमेंट

Pv Logs Worst Ever H1 Sales Motorcycle Sales Dive

सितंबर महीने में पैसेंजर व्हीकल सेगमेंट की बिक्री में थोड़ा सुधार हुआ और यह 223,317 यूनिट रही, इस तरह केवल सितम्बर में उद्योग ने 23.69 प्रतिशत की वृद्धि देखी, जबकि अगस्त 2019 में 41 फीसदी की गिरावट हुई थी, यह गिरावट 33.4 प्रतिशत की थी, जहां केवल 131,281 यूनिट की ही बिक्री हुई।

यह भी पढ़ेः  सितंबर में Maruti Suzuki और Tata Motors के प्रोडक्शन में हुई बड़ी कटौती

हालांकि कई ऑटोमोटिव एजेंसियों को भरोसा है कि पैसेंजर व्हीकल की बिक्री अब सितम्बर की तरह ही महीने दर महीने आगे बढ़ती रहेगी। 1 अप्रैल 2019 में बीएस-6 नार्म्स लागू होने के बाद इसमें और तेजी देखी जा सकती है।

टू-व्हीलर सेगमेंट

Pv Logs Worst Ever H1 Sales Motorcycle Sales Dive

दूसरी ओर टूव्हीलर सेगमेंट में 1,656,774 यूनिट की मासिक बिक्री के साथ 22 प्रतिशत की गिरावट देखी गई, पिछले साल सितंबर 2018 में यह संख्या 2,126,445 यूनिट तक थी।

यह भी पढ़ेः  सितम्बर की सेल्स में आया उछाल, 10 महीनों में सबसे ज्यादा बिके वाहन

ओवरआल आकड़ों को देखे तो मोटरसाइकिल सेगमेंट में भी पिछले छ महीनों में दो दशक के बाद सबसे बड़ी गिरावट देखी गई है। एक बात और ध्यान देने वाली है कि इस दौरान टू-व्हीलर सेगमेंट को राहत केवल ग्रामीण क्षेत्रों से ही मिली है।

कॉमर्शियल व्हीकल सेगमेंट

Pv Logs Worst Ever H1 Sales Motorcycle Sales Dive

भारत के कॉमर्शियल व्हीकल की बिक्री में भी सितम्बर 2019 में 58,419 यूनिट के साथ 39 प्रतिशत की सबसे बड़ी गिरावट देखी गई। इस सेगमेंट में पिछले साल इसी महीनें में मिड और हैवी कॉमर्शियल व्हीकल (एम एंड एचसीवी) की बिक्री 62,105 यूनिट्स तक थी, जबकि अगस्त 2019 में केवल 39,210 यूनिट्स यूनिट ही थी।

यह भी पढ़ेः  1 करोड़ लोगों का छिनेगा रोजगार, इसलिए Driverless Cars की अनुमति नहीं: गडकरी

इस तरह कॉमर्शियल व्हीकल में अगस्त 2019 में 62 प्रतिशत की गिरावट और सितम्बर 2019 में 39 प्रतिशत की पहली गिरावट दर्ज की गई। दरअसल आर्थिक मंदी ने ट्रकों की खरीद को भी हतोत्साहित किया है। कॉर्पोरेट रेटिंग एजेंसी, ICRA के अनुसार घरेलू कॉमर्शियल उद्योग पिछले छः महीने से मांग और बिक्री की कमी जूझ रही है।

कुल आकड़ा

2018 Skoda Octavia Autocar Performance Show Images

कुल मिलाकर अगर सितंबर 2019 की बिक्री को देखा जाए तो भले ही इसमें कुछ सुधार हुआ है, लेकिन घरेलू ऑटोमोबाइल उद्योग में इस महीने में भी 22.41 प्रतिशत गिरावट दर्ज की गई। सितंबर 2018 में कुल वाहनों की बिक्री जहां 2,584,062 यूनिट थी, वहीं सितम्बर 2019 में कुल वाहनों की बिक्री केवल 2,004,932 यूनिट ही रही।

[सोर्स- EconomicTimes]

SIAM की ताज़ा खबरें