Volkswagen लॉन्च करेगी भारत में 4 नई कारें, 8,000 करोड़ रुपए होगा निवेश

09/12/2019 - 12:43 | कार,   | deepak

एक ओर जहां कार मार्केट में मंदी की बात कही जा रही है वहीं दूसरी ओर एसयूवी (स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल) सेगमेंट में वृद्धि तमाम ऑटोमोटिव कंपनियां उत्साहित हैं। इसी बात को देखते हुए जर्मन ऑटो दिग्गज फॉक्सवैगन (Volkswagen) भारत में अगले दो वर्षों में चार एसयूवी मॉडल को पेश करेने की योजना बना रही है।

Vw T Roc At Iaa 2017 6fc0

आगामी मॉडलों के साथ Volkswagen भारत में अपनी बिक्री को भी बढ़ाना चाहती है। उम्मीद है कि कंपनी साल 2020 की दूसरी तिमाही में अपनी नई कारों को रोल करना शुरू कर देगी। इसे लेकर कंपनी ने भी मीडिया के सामने अपनी रूप रेखा सामने रखी।

ऑटो एक्सपो में भी पेश होंगी नई कारें

Volkswagen T Cross 1 1024x678 096e

Volkswagen ने कहा है कि हम भारत के लिए अपने नए ब्रांड और रणनीति के पऱफार्मेंस का विस्तार करेंगे। साथ ही ऑटो एक्सपो 2020 में अपने तीन नए प्रोडक्ट को भी पेश करेंगे। इनमें से पहले को अगले साल की दूसरी तिमाही में लॉन्च किया जाएगा।

इसे भी पढ़ेः MQB A0-बेस्ड VW Nivus SUV- कूप - IAB रेंडरिंग

कंपनी ने अपनी सबसे छोटी एसयूवी के बारे में भी हाल ही में खुलासा किया है और कहा कि इसे VW Nivus के नाम से जाना जाएगा। भारत में इसे साल 2021 में लॉन्च किया जा सकता है। यह कार कंपनी की सबसे छोटी एसयूवी कूप में से एक होगी जिसे इंटरनेशनल मार्केंट में भी उतारा जाएगा।

क्या कहती है कंपनी

Volkswagen T Cross 3 1024x678

कंपनी का कहना है कि भारतीय ग्राहक किफायती प्राइस की ज्यादा प्राथमिकता देते हैं। यही वो बात है कि भारत में किसी भी कंपनी को नए लोगों से जुड़ने में मदद करती है। इसलिए कंपनी की जो भी नई कारें भारत मं लॉन्च होंगी। उन्हें किफायती प्राइस के साथ पेश किया जाएगा।

इसे भी पढ़ेः 2020 ऑटो एक्सपो में VW T-Roc और VW Tiguan Allspace का होगा डेब्यू

फॉक्सवैगन (Volkswagen) दिसंबर 2019 के बाद बीएस-6 वाहनों पर भी जोर देना स्टार्ट करे देगी। कंपनी केवल नए फ्यूल उत्सर्जन मानदंडों में किक के बाद ही पेट्रोल वाहनों पर अपना मंथन करेगी।

8,000 करोड़ रुपये का होगा निवेश

Volkswagen T Cross 2 1024x678

इसके अलावा फॉक्सवैगन (Volkswagen) ग्रूप (Skoda सहित) ने 2022 तक 8,000 करोड़ रुपये की निवेश योजना तैयारहै, जिसमें नए मॉडल और आर एंड सेंटर को स्टार्ट किया जाना शामिल है। इस योजना के तहत पूणे में 650-आड टेक्निशियनों से लेकर 5,000 इंजीनियरों को रैंप किया जाएगा।

अन्य खबरें

फीचर स्टोरी